Author Topic: Some lines @@PPBhaishri  (Read 4865 times)

admin

  • Administrator
  • Newbie
  • *****
  • Posts: 8
    • View Profile
Some lines @@PPBhaishri
« on: October 16, 2017, 02:40:01 PM »
Some lines @@PPBhaishri
"तू इस कदर इन्सान को इतना बेबस ना बना मेरे मालिक..
की तेरा बन्दा तुजसे पहले किसी और के आगे झुक जाये!!"

"पांवों के लड़खड़ाने पे तो सबकी है नज़र,
सर पर है कितना बोझ, कोई देखता नहीं!"

"चिराग कैसे अपनी मजबूरियाँ बयाँ करे.
हवा जरूरी भी.. और डर भी उसी से है..!"

"धुआं भी ढूंढ़ ही लेता है अपना वजूद..,
कभी खुद को खोकर कभी हवा का होकर ।"

"दर्द तो अकेले ही सहते हैं सभी,
भीड़ तो बस फ़र्ज़ अदा करती है.

बहुत गुरूर है दरिया को अपने होने पर
जो मेरी प्यास से उलझे तो धज्जियाँ उड़ जायें

"नाराज़ हमेशा खुशियाँ ही होती हैं..
ग़मों के इतने नखरे नहीं होते....!!"

दोस्ती जब किसी से की जाये
दुश्मनों की भी राय ली जाये I

मैं लाख कह दूँ कि आकाश हूँ, ज़मीं हूँ, मैं
मगर उसे तो ख़बर है कि कुछ नहीं हूँ, मैं

कुछ लोगों से बैर भी ले,दुनिया भर का यार न बन
कौन खरीदेगा तुझको,#उर्दू का अखबार न बन !

"नर्म मिजाज ही है फूल,कि कुछ नही कहते !
वरना कोई दिखा तो दे कांटों को मसलकर।"

"अजब मुसाफ़िर हुँ मैं मेरा सफ़र अजीब
मेरी मंज़िल और, मेरा रास्ता और।"

"कुछ फासले ऐसे भी होते हैं जनाब..जो तय तो नहीं होते
मगर नजदीकियां कमाल की रखते हैं !!"

ज़रूरी नहीं कि सभी बातें शब्दों के माध्यम से ही कही जाय..
कभी मौन, कभी आँसू , कभी मुस्कान भी काफ़ी होती है।

"उम्र का बढ़ना तो दस्तूर- ए जहाँ है,
महसूस ना करो तो बढ़ती कहाँ है !"

"एक साँस सबके हिस्से से,हर पल घट जाती है,
कोई जी लेता है ज़िंदगी,किसी की कट जाती है।"

"दूरियाँ जब बढ़ी तो,गलतफहमियां भी बढ़ गयी,
फिर उसने वो भी सुना जो मैंने कहा ही नहीं !!"

"एहसासों की नमी बेहद ज़रूरी है हर रिश्ते में
रेत भी सूखी हो तो हाथों से फिसल जाती है।"

"जहाँ रहेगा वही रोशनी लुटाऐगा ..
किसी चराग का अपना मकाँ नहीं होता।"

"वक्त ने तराशा बहुत कि हीरा बन जाऊँ..
मैं कोयला बना रहा, बिक जाने के खौफ से..!"

"हर नजर में मुमकिन नहीं है बेगुनाह रहना..
वादा ये करें कि खुद की नजर में बेदाग रहें ।"

"बंद लिफाफे में रखी चिट्ठी सी है ये जिंदगी..
पता नहीं अगले ही पल कौन सा पैगाम ले आये!"

"खतों ने ख़ूब सम्भाला था रिश्तो को....
मोबाईल के बस की वो बात नही....!"

"शीशा कमज़ोर बहुत होता है...
मगर सच दिखाने से घबराता नहीं है...।"